राशन देने वाले के हाथों में जनता शासन नहीं देती!

पटना – बिहार की सरगर्मियों की हलचलो पर निगाहे रखने वाले पप्पू यादव के व्यक्तित्व से अनजान नहीं होंगे। यह शख्स निस्वार्थ मन से बिहार की जनता का विषम परिस्थितियों में मदद करता रहा। बिहार के मुजफ्फरपुर में जब बच्चे चमकी बुखार से दम तोड़ रहे थे और केंद्र व राज्य की सरकार अपने हाथ को ऊपर उठा ली थी उस समय यह शख्स असहाय और मजलूमों की मदद कर रहा था।

मुजफ्फरपुर में बीमार बच्चों से मिलने पहुंचे पप्पू यादव, सरकार पर उठाये सवाल

कुछ दिनों पहले ही जब बिहार बाढ़ की त्रासदी में था और लोग भूख से परेशान थे उस समय पप्पू यादव लोगों को राशन दे रहे थे। लॉकडाउन के समय जब प्रवासी मजदूरों को देश की पुलिस सड़कों पर पीट रही थी और प्रवासी मजदूर भूख से त्रस्त थे वहां भी पप्पू यादव मजदूरों की मदद करने में पीछे नहीं हटे। लेकिन लोग कितने मतलबी होते हैं यह बात पप्पू यादव को अब समझ में आ गई होगी।

Pappu Yadav launch social media campaign 'Bihar Bacha Lo Mauka Hai'- The New Indian Express

बड़े पैमाने पर गरीब व कमजोरों की मदद करने के लिए पप्पू यादव ने बिहार विधानसभा चुनाव में हिस्सा लिया। यह सोच कर कि जनता का दिल खोलकर मदद किया हूं तो जनता हमारा साथ देगी और जीतने के बाद भी इन्हीं का सेवा करना है। लेकिन पप्पू यादव शायद इस बात को भूल गए कि जनता राशन देने वालों के हाथ शासन नहीं सौंपती है। इसे तो झूठे वादे करने वाले फकीर की जरूरत है जो मुंगेरीलाल के ब हसीन सपने दिखाते हैं।

गरीब और प्रवासी श्रमिकों के फिर मददगार बने पप्पू यादव, पटना के मीठापुर बस स्टैंड में बांटा राशन - News Akhada

श्री यादव ने बिहार विधानसभा में अपनी सीट पर मुखरता से प्रचार प्रसार किया। लेकिन अफसोस उन्हे जनता का बहुत ही कम समर्थन मिला जिसके कारण वे सफलता से 3 कदम दूर रहे। लोगों का दिल खोलकर सेवा करने के बाद भी पप्पू यादव की असफलता यह संकेत देती है कि बिहार के लोग अब भी विकास नहीं चाहते है उन्हे तो जाति धर्म के नाम पर लड़ाने वाले बड़बोली राजनेता पसंद है। जो सपना करोड़ों का दिखाते है और विषम परिस्थितियों में पुलिस से डंडे खिलवाते हैं।

Coronavirus outbreak: Not China, not Italy – India's lockdown is the most drastic in the world

लॉक डाउन में प्रवासी मजदूरों का खूनी सफर किसे याद नहीं है केंद्र वाली मोदी सरकार की अचानक देशबंदी फैसले ने समस्त देश पर कहर परपा दिया समस्त सार्वजनिक सेवाएं ठप होने के कारण अपने घरों से मिलो दूर रोजी-रोटी की तलाश में गए प्रवासी मजदूरों के हाथ रोज़गार से खाली हो गए। भूख की त्रासदी ऐसी हुई कि लोग फिर अपने प्रदेश वापस लौटने के लिए पैदल ही खूनी सफर का आगाज कर दिया। क्योंकि सरकार द्वारा यातायात के संसाधनों पर पाबंदी थी।

घर लौटा प्रवासी मजदूर इज्ज़त के साथ अपने गांव में कैसे टिके और परिवार पाले? कुछ कारगर सुझाव - Junputh

बिहारी मजदूर भूखे प्यासे और पुलिस के लाठी डंडे खाते हुए हजार से 1500 किलोमीटर का पैदल खूनी सफर तय करके बिहार बॉर्डर पर पहुंचे तो केंद्र द्वारा समर्थित नीतीश सरकार ने मजदूरों को अपने प्रदेश में एंट्री पर पाबंदी लगा दी। इस समय प्रवासी मजदूरों के लिए पप्पू यादव जैसे लोग वरदान साबित हुए। जो इन्हें कुछ खाने पीने का सामग्री उपलब्ध करा रहे थे वरना सरकारों को तो इन पर लाठियां बरसाने से कहां फुर्सत थी।

Coronavirus in India: What we know about world's largest lockdown - gendermyn.com

समाजसेवी पप्पू यादव की इस जघन मेहनत के बाद भी बिहार विधान सभा चुनाव में असफलता लोगों की एहसान फरामोशी दर्शाता है। अगर लोग ऐसे ही काबिल व्यक्तियों को नकारते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब इस देश की गद्दी पर पूरी तरह चोर उचक्के सत्ताधीश बन कर बैठ जाएंगे और इनके जुल्मों से मुक्ति पाने के लिए देश की जनता को एक बार फिर स्वतंत्रता संग्राम छेड़ना पड़ेगा जिसमें सफलता कब मिलेगी इस टेक्नोलॉजी के जमाने में इसपर अनुमान लगाना कठिन है।

Mdi Hindiसे जुड़े अन्य ख़बर लगातार प्राप्त करने के लिए हमेंFacebook पर like औरTwitter पर फॉलो करें.

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
lbposohhjjzz
3 years ago

Хороший психотерапевт по скайпу. http://batmanapollo.ru/ психотерапевт от психолога.

1
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x