दस राज्यों में कोरोना संक्रमण पर लग जाए अंकुश तो जीत जायेगा भारत: मोदी

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस महामारी पर देश के 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा करते हुए प्रत्येक प्रदेश का ज़मीनी स्थिति से रूबरू हुए।

मंगलवार को प्रधानमंत्री वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, पंजाब, महाराष्ट्र, बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात और तेलंगाना के मुख्यमंत्रियों से बात की।

प्रधानमंत्री कोरोना वायरस पर समीक्षा करते हुए कहा कि इस लड़ाई में देश सही दिशा में जा रहा है। कांफ्रेंसिंग में मौजूद मुख्यमंत्रियों से रूबरू होते हुए प्रधानमंत्री ने कहा अगर आपके प्रदेश में कोरोना पर अंकुश लग जाता है। तो भारत यकीनन इस जंग में जीत जाएगा।

आपको बता दें कि पूरे भारत में 22,68,675 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित है। 45,257 लोग इस बीमारी से अपनी जिन्दगी गंवा चुके है। इस बीमारी को मात देने में 15,83,489 लोग कामयाब रहे है लेकिन अब भी 6,39,929 लोग इस बीमारी से जूझ रहे है।

शुरुआती दौर से ही कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए देश की जनता ने पूरा सहयोग किया है लेकिन शासन की नाकामियों के कारण यह अकड़ा यह तक आ पहुंचा है। आगे कहा तक जायेगा इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है।

निरंतर प्रधानमंत्री के बयान देश की जनता के लिए खोखला साबित हुआ है। प्रधानमंत्री का बयान सुनने के बाद ऐसा महसूस होता है कि हम किसी विकसित में है। कोराना महामारी तो कुछ है ही नहीं।

प्रधानमंत्री के भाषा और शैली इस महामारी में भी सुखद अनुभव देता है। क्योंकि इस देश ने लोशो पर भी दिवाली मनाई है। इसी महामारी के दौर में।

प्रधानमंत्री जिन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से रूबरू थे उसमें अधिकांश राज्यों में बीजेपी का ही शासन है. बैठक में वह मुख्यमंत्री भी शामिल थे जिनके अपने प्रदेश में या तो वे खुद, या उनके मंत्रियों ने लॉक डाउन उल्लंघन किया है।

ऐसा नहीं है कि जनता ने लॉकडाउन का उल्लंघन नहीं किया लेकिन पुलिस ने उसका हर्जाना उन्हें दे दिया।

सिर्फ पॉजिटिव बातें कर देने से स्थिति में बदलाव नहीं होता है। महामारी से बाहर निकलने के लिए अच्छे और सक्षम अस्पतालों की जरूरत है। जिसपर प्रधानमंत्री के साथ देश के सभी मुख्यमंत्रियों को ध्यान देना चाहिए।

On Lock के नियमों का पालन करें स्वयं हित में, समाज हित में, राष्ट्रहित में, Covid-19 की गंभीरता को नजरअंदाज न करें अपना बचाव करें क्योंकि बचाव ही सबसे अच्छा उपचार हैं।

Mdi Hindiसे जुड़े अन्य ख़बर लगातार प्राप्त करने के लिए हमेंfacebookपर like औरtwitterपर फॉलो करें.

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x